कुछ मज़ेदार लम्हे…

May 5, 2016

ईमानदारी

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 10:42
Tags:

पति (मरते समय अपनी बीवी से): अलमारी से तेरे सोने के गहने मैंने ही चोरी किए थे.
बीवी रोते हुए: कोई बात नहीं जी.
पति: तेरे भाई ने तुझे जो एक लाख रुपए दिए थे वह भी मैंने ही गायब किए थे.
पत्नी: कोई बात नहीं मैंने आपको माफ किया.
पति: तेरे कीमती साड़ियां भी मैंने चोरी कर अपनी प्रेमिका को दे दिए थे.
पत्नी: कोई बात नहीं जी, आपको जहर भी तो मैंने ही दिया था हो गई बात बराबर!

February 16, 2012

अजब प्रेम कि गज़ब कहानी…

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 20:26
Tags:

लड़का: मेरे पास अपने दोस्त जैसी कार तो नहीं, पर मैं तुम्हे अपनी पलकों पर बिठा के घुमाऊंगा. मेरे पास उस जैसा बंगला तो नहीं, पर तुम्हे अपने दिल में जगह दूँगा. मेरे पास उस जितने पैसे तो नहीं, पर मैं मेहनत मजदूरी करके तुम्हे खिलाऊंगा. और तुम्हे क्या चाहिए?

लड़की: तुम्हारे दोस्त का मोबाईल नंबर.

Source: SMS

March 16, 2010

कंजूसी

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 15:58
Tags: ,

एक कंजूस लड़का एक कंजूस लड़की से प्यार करने लगता है…

लड़की: जब पिताजी सो जाएँगे तब में गली में सिक्का फेंक दूंगी, फिर तुम फ़ौरन अंदर आ जाना.

…लेकिन लड़का सिक्का फेंकने के एक घंटा बाद आया…

लड़की: इतनी देर क्यों लगा दी?

लड़का: मैं सिक्का ढूँढ रहा था.

लड़की: पागल, वो तो मैने धागा बाँध कर फेंका था!

Source: SMS

March 12, 2010

बेचारा मर्द…

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 14:40
Tags:

अगर औरत पर हाथ उठाए तो ज़ालिम और पिट जाए तो बुजदिल.

औरत को किसी के साथ देख के लड़ाई करे तो jealous और चुप रहे तो बे-गैरत.

घर से बाहर रहे तो आवारा और घर में रहे तो नाकारा.

बच्चों को डांटे तो जालिम और न डांटे तो लापरवाह.

औरत को नौकरी करने से रोके तो शक्की-मिजाज़ और न रोके तो औरत की कमाई खाने वाला.

आखिर ये बेचारा मर्द जाए कहाँ!!!

Source: SMS

December 11, 2009

एक ख़त

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 13:01
Tags: ,

एक गाँव में एक स्त्री थी. उसके पति आई. टी. आई. में कार्यरत थे. वह अपने पति को पत्र लिखना चाहती है पर अल्पज्ञानी होने के कारण उसे यह पता नहीं होता की पूर्णविराम कहाँ लगेगा. इसीलिए उसका जहाँ मन करता है वहीं पूर्णविराम लगाती है. और इक प्रकार वह चिट्ठी लिखती है…

मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणों में. आप ने अभी तक चिट्ठी नहीं लिखी मेरी सहेली को. नौकरी मिल गयी है हमारी गाय ने. बछड़ा दिया है दादाजी ने. शराब शुरू कर दी मैंने. तुमको बहुत ख़त लिखे पर तुम नहीं आए कुत्ते के बच्चे. भेड़िया खा गया दो महीने का राशन. छुट्टी पर आते वक़्त ले आना एक खूबसूरत औरत. मेरी सहेली बन गई है. और इस वक़्त टी.वी. पर गाना गा रही है हमारी बकरी. बेच दी गई है तुम्हारी माँ. तुमको याद कर रही है एक पड़ोसन. हमें बहुत तंग करती है तुम्हारी बहन. सिर दर्द से लेटी है तुम्हारी पत्नी.

Source: e-mail

December 9, 2009

Tech. support

Filed under: English — Yogesh Marwaha @ 22:19
Tags: , ,

Dear Tech Support:

Last year I upgraded from Boyfriend 5.0 to Husband 1.0 and noticed a slow down in the performance of flower and jewellery applications that had operated flawlessly under Boyfriend 5.0.

In addition, Husband 1.0 uninstalled many other valuable programs, such as Romance 9.9, but installed undesirable programs such as NFL 5.0 and NBA 3.0.

Conversation 8.0 no longer runs and Housecleaning 2.6 simply crashes the system. I’ve tried running NAGGING 5.3 to fix these problems, but to no avail. What can I do?

Desperate

[REPLY]

Dear Desperate,

First keep in mind, Boyfriend 5.0 is an entertainment package, while Husband 1.0 is an operating system.

Try to enter the command: C:/I THOUGHT YOU LOVED ME and install Tears 6.2. Husband 1.0 should then automatically run the applications: Guilty 3.0 and Flowers 7.0. But remember, overuse can cause Husband 1.0 to default to Grumpy Silence 2.5, Happy Hour 7.0, or Television 6.1. Television 6.1 is a very bad program. That will create Loud noises ( WAV files) and does not get deleted.

DO NOT install Mother-In-Law 1.0 or reinstall another Boyfriend program. These are not supported applications and will crash Husband 1.0.

In summary, Husband 1.0 is a great program, but it does have a limited memory and cannot learn new applications quickly. You might consider buying additional software to improve performance. I personally recommend Hot Food 3.0 and Cheerfulness 2.0.

Good Luck,

Tech Support

Source: e-mail

पत्नी चालीसा

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 22:03
Tags:

नमो-नमो पत्नी महारानी, तुम्हारी महिमा कोई न जानी ||१||

हमने समझा तुम अबला हो, पर तुम सबसे बड़ी बला हो ||२||

(more…)

New addition to the periodic table of chemical elements

Filed under: English — Yogesh Marwaha @ 21:48
Tags:

New addition to the periodic table of chemical elements

Element Name: WOMAN

Symbol: WO

Atomic Weight: Don’t even dare to ask.

Physical properties: Generally boils at any thing and may freeze at any time. Melts whenever treated properly. Very bitter if mishandled.

Chemical properties: Very reactive. Highly unstable. Possesses strong affinity with gold, silver, platinum, diamond and other precious

stones. Volatile when left alone.

Source: SMS

November 18, 2009

Evolution of Man

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 16:15
Tags: ,

शादी के पहले…

हीरो नं. १

शादी के बाद…

कुली नं.१

शादी के पहले…

मैंने प्यार किया.

शादी के बाद…

यह मैंने क्या किया!

शादी के पहले…

जानेमन मत जाओ.

शादी के बाद…

जान मत खाओ!

शादी के पहले…

तुम बिन रहा ना जाए.

शादी के बाद…

तुम को सहा ना जाए!

शादी के पहले…

कुछ तो बोलो.

शादी के बाद…

कभी चुप भी रहा करो!

शादी के पहले…

आई लव यू.

शादी के बाद…

आज फिर आलू!

शादी के पहले…

मिलने कब आओगी?

शादी के बाद…

मायके कब जाओगी!

Source: SMS

November 17, 2009

ताजमहल

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 01:01
Tags: ,

पत्नी: तुम मुझसे कितना प्यार करते हो?

पति: शाहजहाँ जितना.

पत्नी: तो क्या तुम मेरे लिए ताजमहल बनाओगे?

पति: क्यों नहीं, मैंने तो जगह भी ले ली है, देर तो तुम कर रही हो!!!

Source: SMS

Next Page »

Blog at WordPress.com.