कुछ मज़ेदार लम्हे…

March 16, 2010

कंजूसी

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 15:58
Tags: ,

एक कंजूस लड़का एक कंजूस लड़की से प्यार करने लगता है…

लड़की: जब पिताजी सो जाएँगे तब में गली में सिक्का फेंक दूंगी, फिर तुम फ़ौरन अंदर आ जाना.

…लेकिन लड़का सिक्का फेंकने के एक घंटा बाद आया…

लड़की: इतनी देर क्यों लगा दी?

लड़का: मैं सिक्का ढूँढ रहा था.

लड़की: पागल, वो तो मैने धागा बाँध कर फेंका था!

Source: SMS

Advertisements
TrackBack URI

Blog at WordPress.com.