कुछ मज़ेदार लम्हे…

November 16, 2009

बेचारा डॉक्टर

Filed under: हिंदी — Yogesh Marwaha @ 22:05
Tags: , ,

डॉक्टर: अब आपकी तबियत कैसी है?

मरीज़: डॉक्टर साहब, पहले से ज्यादा खराब हो गई है.

डॉक्टर: दवाई खा ली थी क्या?

मरीज़: नहीं डॉक्टर साहब, दवाई की शीशी तो भरी हुई थी.

डॉक्टर: अरे, मेरे कहने को मतलब है कि दवाई ले ली थी क्या.

मरीज़: जी, आपने दवाई दे दी थी और मैंने ले ली थी.

डॉक्टर: अबे, दवाई पी ली थी क्या?

मरीज़: ओहो, नहीं डॉक्टर साहब, दवाई तो लाल थी.

डॉक्टर: अबे गधे, दवाई को पी लिया था?

मरीज़: नहीं डॉक्टर, पीलिया तो मुझे था.

डॉक्टर: अबे, तेरी तो! दवाई तो मुहं लगाकर पेट में डाला था कि नहीं?

मरीज़: नहीं डॉक्टर साहब.

डॉक्टर: क्यों?

मरीज़: क्योंकि ढक्कन बंद था.

डॉक्टर: तेरी तो, साले! ढक्कन खोला क्यों नहीं?

मरीज़: साहब, आपने ही तो कहा था कि शीशी का ढक्कन बंद रखना.

डॉक्टर: तेरा ईलाज मैं नहीं कर सकता.

मरीज़: अच्छा डॉक्टर साहब, यह तो बता दो कि मैं ठीक कैसे होऊंगा.

डॉक्टर: अबे तेरी @$#$^!!!

Source: SMS

Advertisements
TrackBack URI

Blog at WordPress.com.